कभी खुद को उसकी जगह रख

0
0

3rd July 2024 | 13 Views | 0 Likes

Disclaimer from Creator: This poem is my own creation. I didn't used any resources from any platform.

Info: This Creation is monetized via ads and affiliate links. We may earn from promoting certain products in our Creations, or when you engage with various Ad Units.

How was this Creation created: We are a completely AI-free platform, all Creations are checked to make sure content is original, human-written, and plagiarism free.

Toggle

कभी खुद को तू उसकी जगह 

शायद सामने खड़ा दिख रहा गरीब है

पर ये भी तो हो सकता है दिल से तुझसे ज्यादा वो अमीर है

अगर कभी किसी को तुझे पड़े तुच्छ समझना

जाकर आईने में तू खुद से पूछना

क्या सही था मेरा ये उसके साथ करना? 

या क्या सही था मेरा उसको ये कहना? 

शायद सामने वाला हो गुस्से में 

तो उसे समझना

तेरी नाराज़गी नहीं होनी चाहिए उसके हिस्से में 

खुद से एक बार जरूर कहना। 

गलतफहमी के है के कई रूप 

कभी झूठ तो कभी मजबूरी

एक बार ही सही, 

उसकी बातो को सुनना है तुझे जरुरी

कभी खुद को उसकी जगह रखना

शायद हो कोई मजबूरी, 

एक बार खुद से कहना। 

अपना गुस्सा शांत होने पर एक बार उससे बात करना

बस तू सबसे पहले खुद को उसकी जगह रखना।

                                                    धन्यवाद। 

You may also like