Milyin Featured 24

Creation 518335

Bhupender SinghLast Seen: Dec 31, 2023 @ 3:35am 3DecUTC
Bhupender Singh
@Bhupender-Singh

31st December 2023 | 5 Views
Milyin » 518335 » Creation 518335

Info: This Creation is monetized via ads and affiliate links. We may earn from promoting certain products in our Creations, or when you engage with various Ad Units.

How was this Creation created: We are a completely AI-free platform, all Creations are checked to make sure content is original, human-written, and plagiarism free.

Toggle

                   उपन्यास                              विजय बहादुर की जीवन गाथा

                    भाग – 1

  अजीब प्रश्न और मोनिका का किस्सा 

 चारों और से सुंदर काननो, फूल झाड़ियों से घिरा हुआ एक बहुत ही सुंदर साम्राज्य था -अवंतिपुर। जहां के राजा राय बहादुर जी बड़े आमोद प्रमोद से अपना जीवन यापन कर रहे थे। अवंति अत्यधिक सुंदर साम्राज्य था और जितना सुंदर था उससे भी ज्यादा इसकी वास्तुकला सुंदर थी। जहां के लोग भी खुशी से अपना जीवनयापन कर रहे थे। परंतु खुशी में गम का आ जाना तो स्भाविक सी बात ही है।रियासत के महाराजा रायबहादुर जी फिर भी निराशा में डूबे रहते थे क्योंकि उनके कोई भी संतान नहीं थी।वे अपने उतराधिकारी को लेकर हमेशा से ही चिंता में डूबे रहते थे।महाराजा की आयु भी अब 45 वर्ष की हो चुकी थी।एक दिन महाराजा रायबहादुर जी ने दरबार में घोषणा कर दी की “कल सुबह रियासत के सभी युवा हमारे दरबार में पहुंच जाए,हम ये फैसला करेंगे की हमारे बाद में इस रियासत का महाराजा कौन बनेगा।” ये घोषणा पूरी रियासत में कर दी गई।अगली सुबह महाराजा के दरबार में युवाओं की भीड़ लग गई। महाराजा रायबहादुर दरबार में उपस्थित हुए।युवाओं की और देखते हुए महाराज ने गभीरता से कहा”रियासत का महाराजा तो हर कोई बनना चाहता है।लेकिन हर कोई तो नही बन सकता ना।मेरे बाद में इस रियासत का महाराजा वही बनेगा जो मेरे प्रश्न का सही जवाब ढूढकर लायेगा।” ये सुनते ही सारे युवा उत्सुकता से महाराजा की और देखने लगे।महाराजा ने फिर कहा”मेरा प्रश्न ये है की शैतान गुलबदन खां की कब्र कहा पर है।” सारे दरवार में अजीब सी खामोशी छा गई।महाराज फिर बोले”है कोई जो इस प्रश्न का उत्तर पता लगा सकता है।” ये सुनते ही लगभग आधे युवाओं ने हाथ खड़ा कर लिया।

महाराज अजीब तरीके से मुस्कुराए और फिर बोल पड़े”इस प्रश्न का उत्तर ढूढने के लिए अनेक बहादुर सुरमे गए पर सारे विफल रहे,सब मारे गए,ये एक मौतिया प्रश्न है जो भी जवाब के लिए गया वो मारा गया।”ये सुनते ही लगभग सारे हाथ नीचे हो गए।एक हाथ अब भी ऊंचा था।एक युवा मुस्कुराते हुए महाराज की और देख रहा था।उसकी उम्र लगभग 20 साल की होगी।महाराज ने उसे आगे अपने पास बुलाया।”काफी बहादुर लगते हो,तुम्हे लगता है की तुम इस प्रश्न का जवाब ढूढकर ला सकते हो?”महाराज ने लड़के की और उत्सुकता से देखते हुए कहा।लड़के ने भी गंभीरता से जवाब दिया”जी महाराज,जरूर।

“क्या नाम है तुम्हारा।” महाराज ने पूछा।

“विजय” उस लड़के ने जवाब दिया।

” “अभी भी तुम्हारे पास वक्त है, सोच लो,हो सकता है तुम वापिस जिंदा न लोट पाओ।” लड़के ने आत्मविश्वास से जवाब दिया ” महाराज इस प्रश्न का जवाब मैं आपके कदमों में लाकर रख दूंगा।””ठीक है तो तुम्हें कितना समय चाहिए?” महाराज ने शकभरी निगाहों से उस लड़के विजय बहादुर की और देखा।विजय कुछ देर के लिए अपनी सोच में गुम सा हो गया और फिर वो अनायास ही बोल पड़ा”दो महीने।” विजय का जवाब सुनकर महाराज अजीब सी हंसी में हंसे और बोले”ये काम उतना आसान भी नहीं है जितना कि तुम सोच रहे हो, मैं तुम्हे पूरे दो वर्ष का समय देता हूं,अगर तुम जिंदा वापिस लौट सके तो।” विजय ने भी हां में सिर हिला दिया।अगली सुबह विजय अपने माता पिता का आशीर्वाद लेकर अपने दोस्त मनोज को अपने साथ लेकर इस विजय अभियान पर निकल पड़ा। हालांकि उन दोनो को ही नही मालूम था की उन्हे कहा जाना है?वे दोनो बस यायावर की तरह चले जा रहे थे।चलते चलते वे एक वीरान और भयानक से जंगल में घुस गए।लंबे समय के बाद में अब मनोज ने अपनी चुप्पी तोडी और वो बोल पड़ा।

मनोज – यार विजय एक सवाल पूछूं क्या?

विजय – हां क्यों नहीं पूछो मनोज।

मनोज – विजय ये गुलबदन खां था कोन?उसे किसने मारा होगा?उसकी कब्र कहा होगी?

विजय – पता नही मनोज।पर हमे उन लोगो का पता लगाना होगा जिन्होंने उसे दफनाया होगा।

मनोज – मुझे तो शेतानो से बड़ा डर लगता है और एक ये जंगल इतना भयानक है और रात भी होने को आ गई है। मैं तो कहता हूं विजय हमे आज की रात इसी जंगल में बितानी चाहिए नही तो जंगली जानवर हमे मार डालेंगे।

विजय – मुझे लगता है हमे कुछ आगे चलकर देखना चाहिए। शायद गुलब्दन खां के बारे में कुछ पता चल जाए।

मनोज – अरे मेरे भाई महाराज ने तुम्हे दो साल का समय दिया है,दो दिन का नही।इस प्रश्न का जवाब आराम से पता लगा लेंगे।

विजय – ठीक है मनोज। पर हमे रात गुजारने के लिए कोई गुफा ढूंढनी चाहिए नही तो जंगली जानवर हमे मार डालेंगे।

ये कहते हुए वे जंगल में आगे बढ़ गए । अंधेरा हो चुका था। चारों तरफ एक अजीब सा सन्नाटा छाया हुआ था।सिर्फ खामोशी ही चारों तरफ विराजमान थी। अचानक जंगली भेड़ियों के भौंकने के आवाज आने लगी। वे दोनो थोड़ा सा डर गए।हालांकि विजय बहादुर को डर तो नही लगता था पर उस भयानक रात का दृश्य ही कुछ ऐसा था की कोई भी होता तो डर ही जाता।वे दोनो जंगल के बीचों बीच पहुंच गए।उन्हे अचानक एक गुफा नजर आई । वे दोनो उस गुफा में घुस गए।मनोज तो गुफा के अंदर पड़ी घास पर लेट गया था।विजय भी वही बैठ गया। अंधेरा भी पहले से अधिक बढ़ गया था।मनोज बोल पड़ा।

मनोज – विजय क्या भयानक रात है,कोई भूतिया कहानी हो जाए तो मजा आ जाए।

विजय – हां मुझे कोई कहानी सोचने दो।

विजय अपनी सोच में गुम सा हो गया।मनोज उसके चेहरे की और उत्सुकता से देखने लगा।अचानक विजय के चेहरे पर थोड़ी सी चमक आ गई।वो बोल पड़ा “ठीक है मनोज एक भूतिया कहानी सुनाता हूं।हां पर तुम कही डर मत जाना।”

“अरे भाई ऐसी भयानक रात में भूतिया कहानी सुनने के तो मजे ही कुछ और है।” ठीक है तो कहानी का नाम है “कब्रिस्तान का चौकीदार” कहानी का नाम सुनते ही मनोज थोड़ा सा डर गया। वो लेट कर मजे से कहानी सुनने लगा । विजय ने भी अपनी कहानी सुनानी शुरू कर दी।। विजय बोलने लगा की “वो एक भयानक, सुनसान और खामोशी ने डूबा हुआ सा गांव था। गांव का नाम था खंडहरपुर। सुरेश नाम का एक युवा लड़का कुछ दिन के लिए अपनी नानी के पास रहने के लिए आया था।आज उसका इस वीरान से गांव में पहला ही दिन था। वो दोपहर के वक्त अपनी नानी से बोला” नानी मैं बाहर घूमने के लिए जा रहा हूं।” “बेटा चले तो जाओ पर रात होने से पहले वापिस लौट आना। हां और ज्यादा दूर मत निकल जाना।” “नानी आप फिक्र मत कीजिए मैं शाम होने से पहले ही लौट आऊंगा।”यह कहकर वह घर से बाहर घूमने के लिए निकल गया। गांव की शुरुआत एक जंगल से होती थी और उस जंगल की शुरुआत होती थी एक वीरान से कब्रिस्तान से। असल में सुरेश एक यायावर ही था। उसका काम ही था रातों को इधर उधर घूमना, रात में प्रकृति के अद्भुत नजारे देखना उसे बहुत अच्छा लगता था।उसे कहां जाना है उसका कोई लक्ष्य नहीं था वह तो बस चला जा रहा था। धीरे-धीरे चलते-चलते हुए वह उस खामोश और भयानक से कब्रिस्तान के पास पहुंच गया। उसने कब्रिस्तान को देखकर भी अनदेखा कर दिया। कब्रिस्तान को पार करके वह आगे जंगल के अंदर घुस गया। वह जंगल के अद्भुत नजारे देखने लगा। जंगल में घूमते घूमते वह काफी दूर निकल गया। घूमते घूमते उसे पता ही नहीं चला कि कब शाम होने को आ गई । उसे अचानक से याद आया कि उसे वापस अपने घर को भी जाना है । वह कुछ हड़बड़ाहट में वापस मुड़ पड़ा और धीरे-धीरे जंगल से बाहर अपने घर की ओर लौटने लगा। वह धीरे-धीरे चलते हुए जंगल से बाहर निकल आया। अंधेरा पहले से अधिक बढ़ गया था । वह जंगल से बाहर निकल कर कब्रिस्तान के पास पहुंच गया । कब्रिस्तान के चारों ओर चार दिवारी थी। उसने कब्रिस्तान में एक नजर दौड़ाई। कब्रिस्तान में एक अजीब और भयानक सी खामोशी और सन्नाटा छाया हुआ था। चारों तरफ सिर्फ अंधेरा ही नजर आ रहा था। यह दृश्य देखकर ऐसा लग रहा था मानो की सभी लाशे अपनी कब्रों में आराम से चैन की नींद सोई हुई हो। चारों तरफ सन्नाटा और एक अजीब सी खामोशी छाई हुई थी। हालांकि सुरेश रातों में ऐसे ही घूमता रहता था उसे डर तो नहीं लगता था मगर उस रात का सन्नाटा ही कुछ ऐसा था कि अगर कोई भी होता तो वह डर ही जाता। सुरेश को अचानक ही कब्रिस्तान के अंदर एक लाल सी आकृति खड़ी हुई नजर आई। पहले तो उसे समझ में ही नहीं आया की यह आकृति थी क्या कोई कपड़ा, कोई कब्र, कोई औरत, कोई लड़की, या फिर कोई डायन। डायन का नाम सुनते ही मनोज भी थोड़ा सा डर गया उसने भी धीरे से करवट ली और बोल पड़ा ” विजय आगे सुनाओ।” विजय ने कहानी सुनाना जारी रखा। विजय आगे बोलने लगा। सुरेश ने गौर से उस आकृति की ओर देखा। वह कोई लाल कपड़ों में लड़की थी। सुरेश के कदम न जाने क्यों अपने आप ही धीरे-धीरे उस लड़की की और बढ़ने लगे। वह लड़की भी धीरे-धीरे सुरेश की और बढ़ रही थी। सुरेश को पता ही नहीं चला की वो कब चलते-चलते कब्रिस्तान के अंदर पहुंच गया। सुरेश को अब भी उस अनजान सी लड़की चेहरा कुछ धुंधला सा नजर आ रहा था। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह कौन है? उस लड़की के पैरों के घुंघरू भी जोर-जोर से आवाज कर रहे थे । वह लड़की अब सुरेश के बिल्कुल पास आकर खड़ी हो गई । सुरेश उस लड़की की और देख कर दंग रह गया। उस लड़की की खूबसूरती देखकर वह मदहोश सा हो गया। रात के इतने भयानक और खतरनाक से अंधेरे में भी उस लड़की का चेहरा किसी हीरे की तरह चमक रहा था। सुरेश को वह लड़की साक्षात एक परी के समान नजर आ रही थी। उसने फिर से उस लड़की की और गौर से देखा। उस लड़की की पलकों के मसकारे, और उसकी होठों की लाली, उसके गले का चमकता मोतियों का हार, और उसके कान की बाली, यह सब कुछ देख कर सुरेश के चेहरे पर भी आ गई थी लाली।। सुरेश अब पूरी तरह से उस लड़की की खूबसूरती के माया जाल में खो गया। उस लड़की ने सुरेश की ओर शक भरी निगाहों से देखते हुए बहुत ही कोमल और मीठी आवाज में कहा “जी आप कौन हैं? और इतनी रात को इस कब्रिस्तान में क्या कर रहे हैं?” सुरेश ने लड़की के इस प्रश्न का कोई जवाब नहीं दिया क्योंकि वह तो पहले से ही लड़की की खूबसूरती के माया जाल में गोता लगा गया था। वह लड़की कुछ देर के लिए सुरेश के चेहरे की और ताकते रही और फिर कुछ जोर से बोलते हुए उसने फिर से पूछा “जी आप कौन हैं? और इतनी रात को इस कब्रिस्तान में क्या कर रहे हैं?” यह सुनते ही अचानक से सुरेश होश में आ गया। वह कुछ देर के लिए अपनी सोच में गुम सा हो गया फिर वह लड़की की ओर देखकर मुस्कुराते हुए बोला “जी मेरा नाम सुरेश है अपनी नानी के पास आया हुआ था। मैं तो बस यूं ही घूमने के लिए निकला था। मैं जंगल के काफी अंदर चला गया था। इसलिए लौटते वक्त काफी देर हो गई। मैं तो बस वापिस लौट ही रहा था कि तभी आपके दर्शन हो गए।” “आपको इतनी रात को डर नहीं लगता?” लड़की ने शक भरी निगाहों से सुरेश की ओर देखते हुए पूछा। लड़की की बात को सुनकर सुरेश कुछ देर के लिए खामोश सा हो गया और फिर वह कुछ सोचते हुए बोला “अरे नहीं डर कैसा मेरा तो काम ही है रातों को घूमना ।”सुरेश ने हंसते हुए जवाब दिया। लड़की ने भी सुरेश की और देखा और मुस्कुराने लगी। सुरेश जानता था की उसने झूठ बोला है क्योंकि इतनी रात गए उसे डर तो लग रहा था। अचानक से उस लड़की ने सुरेश का हाथ पकड़ लिया। सुरेश ये देखकर हैरान रह गया। किसी अनजान जगह पर अनजान लड़की के द्वारा अनजान लड़के का अनजान से तरीके से हाथ पकड़ लेना हैरानी में तो डालता ही है। उस लड़की ने सुरेश को अपने साथ आने के लिए कहा । वो लड़की सुरेश का हाथ पकड़कर आगे आगे चल रही थी और वो चुपचाप उसके पीछे चल रहा था मानो की वो उसका एक दास हो। उस लड़की का हाथ इतना कोमल और मुलायम था की सुरेश को लगने लगा की वो हाथ अभी पिघल जायेगा। सुरेश ने पहली बार अपनी जिंदगी में इतनी खूबसूरत लड़की देखी थी। वे दोनो कुछ भयानक सी कब्रों को पार करते हुए एक चौकोर आकार के पत्थर पर जाकर बैठ गए। उस पत्थर को देखकर भी ये लग रहा था की वो भी उन दोनो का ही इंतजार कर रहा था। सुरेश ने उस पत्थर पर बैठते हुए चारों और नज़र दौड़ाई। इस खामोश से कब्रिस्तान में उन दोनों के अलावा और कोई भी दूर दूर तक नज़र नही आ रहा था। सुरेश ने धीरे से बोलते हुए कहा ताकि उसकी आवाज को सिर्फ वो लड़की ही सुन सके और कोई भी नही “जी आपने अपना नाम नही बताया और इतनी रात गए आप इस कब्रिस्तान में क्या कर रही थी?” सुरेश ने कुछ आश्चर्य सा व्यक्त करते हुए कहा। ये सुनते ही उस लड़की ने सुरेश के चेहरे की और देखा और कुछ सोचने लगी । वो कुछ देर के लिए खामोश रही और फिर धीरे से मीठी सी आवाज में बोल पड़ी” जी मेरा नाम मोनिका है,मेरे पिता इस कब्रिस्तान में एक चौकीदार है, मैं उनके साथ में यंही रहती हूं। अब तो ये कब्रिस्तान ही हमारा घर है।” लड़की कुछ मायूस होकर बोली। लड़की की बातें सुनकर सुरेश थोड़ा सा डर गया और फिर वे दोनो ही कुछ देर के लिए खामोश रहे। सुरेश ने कुछ सोचते हुए अपनी चुप्पी तोडी और फिर से बोल पड़ा ” जी आपको इस कब्रिस्तान में डर नही लगता?” ये सुनकर वह लड़की एक अजीब से तरीके से मुस्कुराई और फिर कुछ सोचते हुए बोल पड़ी ” अब मुझे जहा पर रहने की आदत हो गई है, इसलिए अब डर नही लगता, हां पर शुरुआत में जरूर लगता था।” इसके बाद फिर से वे दोनो कुछ देर के लिए चुप रहे। कुछ सोचते हुए वह लड़की फिर से बोल पड़ी “हां मगर अब मैं इस कब्रिस्तान से तंग आ चुकी हूं।जहा पर कोई भी मेरे साथ बाते करने के लिए नही आता है। अब मुझे जहा पर रहते हुए अकेलापन महसूस होने लग गया है। यह कहकर वह लड़की निराश हो गई। सुरेश से लड़की की ये निराशा देखी न गई और वह बोल पड़ा “अब मैं हूं ना तुम्हारे साथ बाते करनें के लिए, अब मैं रोज तुम्हारे पास आया करूंगा।” यह कहकर सुरेश कुछ देर के लिए खामोश हो गया और वह मन में सोचने लगा की उसे लड़की को ऐसा नही कहना चाहिए था। उसे हद पार नहीं करनी चाहिए। लड़की ने भी शकभरी निगाहों से सुरेश की और देखते हुए पूछा “तुम रोज तो आओगे ना।” “हां हां क्यों नहीं मैं रोज आऊंगा तुमसे बाते करने के लिए।” ये कहते हुए सुरेश ने एक ठंडी सी आह भरी और कुछ देर के लिए खामोश हो गया। वे दोनो इसी तरह आधी रात तक बाते करते रहे। सुरेश को किसी चीज का कोई होश नही था। वो तो बस उस लड़की की बातों में खोया हुआ था। सुरेश का मन तो उस लड़की के पास से हिलने का बिलकुल भी नहीं कर रहा था। वह तो चाहता था की वो पूरी उम्र उस लड़की के पास बैठे हुए गुजार दे। सारी उम्र वो उससे बस मीठी मीठी बातें करता रहे। पर नियति को यह शायद कहा मंजूर था। बातें करते करते उसने आसमान में चांद की और देखा और वो थोड़ा सा चिंतित हो उठा। उसे अचानक ही याद आया की उसके एक नानी भी है जिसके पास उसे रात होने से पहले ही लौटना था पर उसे अब बहुत देर हो चुकी थी। जो अब भी शायद उसी का इंतजार कर रही होगी। ये सोचते हुए वो अचानक ही उस लड़की के पास से उठ खड़ा हुआ। लड़की से बाते करते हुए उसे पता ही नहीं चला था की कब आधी रात हो गई थी। लड़की ने भी आश्चर्य से सुरेश की और देखते हुए पूछा “क्या हुआ? इस तरह खड़े क्यों हो गए?” सुरेश ने हड़बड़ाहट में लड़की के चेहरे की और देखते हुए कहा “मोनिका मुझे अब अपने घर जाना चाहिए। आधी रात हो चुकी है। मेरी नानी घर पर अकेली है वो मेरा इंतजार कर रही होगी।” लड़की भी सुरेश की और भावसून्यता से देखने लगी। वो भी सुरेश की परेशानी को अच्छे से समझ सकती थी । लड़की ने भी धीरे से हां में सिर हिला दिया। हालंकि सुरेश का मन तो नहीं कर रहा था की वो उस लड़की को इस तरह अकेला छोड़कर चला जाए पर वो कर भी तो क्या सकता था। वो भी वक्त के आगे मजबूर था। वो पीछे मुड़ा और अपने घर की और जाने ही लगा था की तभी उस लड़की ने फिर से वही सवाल पूछा” तुम कल वापिस तो आयोग ना?” सुरेश उस लड़की की और घुमा और कुछ देर के लिए अपनी सोच में घूम सा हो गया और फिर मुस्कुराते हुए बोला “मुझे भी नही मालूम ,उम्मीद तो है।” ये सुनते ही वो लड़की भी थोड़ा सा मुस्कुरा पड़ी। मनोज वापिस पीछे मुड़ा और तेजी से चलने लगा। वो धीरे धीरे कब्रो को पार करने लगा। वो धीरे धीरे चलते हुए कब्रिस्तान के दरवाजे तक पहुंचा और कब्रिस्तान से बाहर निकल गया। कब्रिस्तान से बाहर निकलते ही वो फिर से पीछे मुड़ा और उस पत्थर की और देखा वो लड़की अब भी चुपचाप उस पत्थर पर बैठी थी और सुरेश की तरफ ही घूरे जा रही थी। सुरेश जैसे ही चलने के लिए आगे मुड़ा तभी उसे सामने से एक काली परछाई अपनी और आते हुए नजर आई। ये देखकर वो बुरी तरह डर गया। उसका शरीर सुन हो गया मानो की उसे लकवा ही मार गया हो। वो हिल भी नहीं पा रहा था। पर अगले ही पल उसने कुछ शांति की सांस ली क्योंकि वह तो सिर्फ एक बूढ़ा सा व्यक्ति था जो तेजी से उसकी और बढ़ रहा था। रात के अंधेरे में उसका चेहरा कुछ साफ नजर नहीं आ रहा था। सुरेश ने अनुमान लगाया शायद वह चौकीदार होगा। मोनिका का पिता। यह सोचते हुए उसने फिर से अपनी नजर कब्रिस्तान में दौड़ाई वो लड़की अब भी वही उसी पत्थर पर बैठी थी और उसी की और देखे जा रही थी। तभी वो बूढ़ा चौकीदार सुरेश के पास आकर खड़ा हो गया और आश्चर्य से उसकी और देखते हुए पूछा” बेटा तुम कोन हो और इतनी रात को इस कब्रिस्तान के पास क्या कर रहे हो? इतनी रात को तो यहा भूत भी आने से डरते हैं।” इतना कहकर वह बूढ़ा खांसने लगा। सुरेश कुछ देर रुका और फिर धीरे से बोल पड़ा” दादा मैं तो बस यूं ही घूमने निकला था। घूमते घूमते जंगल में काफी दूर निकल गया था । इसलिए वापिस लौटते वक्त काफी देर हो गई । बस जहा से गुजर रहा था की तभी वो लड़की…..।” इतना कहकर सुरेश कुछ देर के लिए चुप हो गया। लड़की का नाम सुनते ही वो चौकीदार सुरेश की और आंखे फाड़ फाड़कर देखने लगा और उसकी बात पूरी होने का इंतजार करने लगा। मगर सुरेश इस भयानक सी रात में कुछ देर के लिए खामोश सा होकर रह गया। कुछ देर रुकने के बाद कुछ सोचते हुई सुरेश चौकीदार के चेहरे की और देखते हुए गंभीरता से बोला ” दादा मोनिका आपकी ही बेटी है ना?” मोनिका का नाम सुनते ही वो बूढ़ा चौकीदार थोड़ा सा मायूस हो गया और फिर सिसकी लेते हुए बोल पड़ा “है नही बेटा थी।” ये सुनते ही सुरेश के पैरों तले जमीन खिसक गई। इस ठंड की रात में भी वो पसीना पसीना होकर रह गया। उसने तेजी से कब्रिस्तान के अंदर उस पत्थर की और नजर दौड़ाई अब वो लड़की वहा पर नही थी। उसने चारो तरफ देखा वो लड़की उसे कही पर नजर नहीं आई। सुरेश के तो कुछ भी समझ में नही आ रहा था। उसके तो यह भी समझ में नही आ रहा था की ये सच है या सपना। उस ठंड की रात में वो कुछ देर के लिए एक बेजान सी लाश बनकर रह गया। तभी वो बूढ़ा चौकीदार रोने लगा और सुरेश के कंधे पर हाथ रखकर धीरे से बोला जिसकी आवाज सिर्फ और सिर्फ सुरेश ही सुन सके और कोई भी नही “बेटा मोनिका तो मुझे दो साल पहले ही छोड़कर चली गई थी। उसे लाइलाज बीमारी थी मेरे पास उसके इलाज के लिए आने नहीं थे। इलाज न हो पाने के कारण उसने दो साल पहले ही दम तोड दिया था। सुर

Bhupender SinghLast Seen: Dec 31, 2023 @ 3:35am 3DecUTC

Bhupender Singh

@Bhupender-Singh

Following0
Followers5


You may also like