Hd Wallpaper Lord Shiva Meditation Lord Shiva Meditation Statue God Mahadev (1)

भगवान शिव की शक्ति

NEENA ASRANILast Seen: Feb 22, 2024 @ 9:02am 9FebUTC
NEENA ASRANI
@PUSPHEE

20th November 2023 | 7 Views

Info: This Creation is monetized via ads and affiliate links. We may earn from promoting certain products in our Creations, or when you engage with various Ad Units.

How was this Creation created: We are a completely AI-free platform, all Creations are checked to make sure content is original, human-written, and plagiarism free.

Toggle

एक समय की बात है । पार्वती शिव से नाराज थीं, शिव समाधि में थे और पार्वती अपने मन की

 शिव जी को बताना चाहती थीं सती राजा दक्ष की पुत्री थीं

और शिव जी के कारण पिता ने अपनी बेटी से संबंध नहीं रखा

ब शिवजी की समाधि टूटी तो पार्वती ने शिवजी से पूछा कि आप किसकी समाधि करते  हैं तो  उन्होंने कहा राम की तब सती चुप हो गईं.  जब राम को वनवास हुआ और रावण ने माता सीता का अपहरण कर लिया . राम सीता को चिंतित हो कर  

वन ढूंढ रहे थे राम भगवान पक्षी पशु से पता पूछ रहे थे

तभी सती ने महादेव से पूछा कि क्या यह वही स्वामी हैं जिनकी आप समाधि लगाते हैं यह साधारण आदमी है जो जंगल में अपनी पत्नी को ढूंढ रहा था.  महादेव ने सती को समझाने की कोशिश की कि राम का जन्म रावण

 कुछ करने के लिए हुआ है लेकिन सती नहीं मानीं 

तब महादेव ने कहा तुम चाओ तोह परीक्षा ले सकती हो

तभी सती ने सीता का रूप लेकर राम के सामने गयी

तब सती सीता का रूप  लेकर राम के सामने खड़ी हो गईं

लेकिन राम तो भगवान हैं, उन्होंने सती से कहा कि क्या आप महादेव को कैलाश पर   छोड़ कर आयी हो

तभी सटी शर्मिंदा हो गयी जब उसने पीछे देखा तो उन्हें राम ही राम दिखाई दे रहे थे. तब उसे एहसास हुआ कि वह बहुत गलत थी. वह  कैलाश में वापस आये. शिव जी ने तभी पूछा हो गई परीक्षा सटी ने कुछ नहीं कहा . शिव जी ने अपनी 

 ध्रष्टी शक्ति से सब देख लिया. और उन्होंने माता के स्थान मैं नीलकंठ  को कहा तभी सटी समझ गयी कि महाबेव ने उनका त्याग कर दिया है. और वह दुखी हुई

एक दिन सती ने आसमान में बहुत सारे विमान उड़ते देखे और शिव जी से पूछा यह सब क्या है तभी शिव जी ने कहा तुम्हारे पिता ने  बड़ा यज्ञ किया है  यह सब देवता वहीँ जा रहे है. सती ने कहा के मुझे भी पिता के यज्ञ में जाना है. शिव जी ने बहुत समझाय के हुमे निमंत्रण नहीं आया है लेकिन सट्टे ने ज़िद पकड़ी थी वह  भी जायगी . महादेव ने नंदी को उनके साथ बेजा

जब सती दक्ष के घर पहुंची तब पिता ने अपनी पुत्री को बहुत सुनाया और शिव जी का अपमान भी किया और वह क्रोदित हो गयी .और उन्होंने शिव जी का बाग यज्ञ में नहीं देखा

तोह उन्होंने सभी देवताओं से कहा कि जिसने भी शिव जी का अपमान किया है और सुना है वह सब यहाँ से चले जाइए

और यज्ञ की जोह अग्नि  प्रचलित थी उस में सटी कूद पड़ी

नंदी गण ने जब देखा तोह पूरा यग्य विदास कर दिया

और इस तरह सती ने अपना त्याग कर दिया

 

 

NEENA ASRANILast Seen: Feb 22, 2024 @ 9:02am 9FebUTC

NEENA ASRANI

@PUSPHEE

Following0
Followers0


You may also like

Leave a Reply